हथियार


खट-पट रहती हम दोंनों में शायद ही पटती थी।
मैं कहता पूरब की तो वह पश्चिम को चलती थीं।।
हुआ अचम्भा मुझे एक दिन बैठीं मेरे पास।
प्यार से बोलीं सुनो पिया जी मेरे दिल की बात।।
खोज लिया है अब तो मैंने एक अनोखा यंत्र।
पंगा लिया किसी ने तो मैं कर दूंगी विध्वंस।।
पास सभी के रहता लेकिन करते नहीं प्रयोग।
मैंने करना सीख लिया है इसका सदुपयोग।।

इतना तेज कि पलक झपकते हाजिर हो जाता है।
कहाँ छुपा रखती हूँ कोई समझ नहीं पाता है।।
साउण्ड सिस्टम बड़े गजब का म्यूट भी हो जाता है।
फुल वॉल्यूम करो तो शेर भी गीदड़ बन जाता है।
क्या-क्या करूं बखान इसे तुम रामबाण ही जानो।
जितनी भी तारीफ करूं मैं उतना ही कम मानो।।
हरदम रखूं पास न जाने कब पड़ जाऐ काम।
मिनटों में ही कर देता दुश्मन का काम तमाम।।

बड़े काम की चीज लगा सोचा मैं भी न डरूंगा।
मेरे भी कई दुश्मन हैं मैं भी उनको देखूंगा।।
बोला हे गुरूदेवी अपना चेला मुझे बनालो।
गुरूमंत्र दे दो और इसका स्तेमाल सिखादो।।
तिरछी नजर करी और बोलीं कान इधर को करलो।
गुण तो सारे जान लिए अब चेतावनी भी सुन लो।।
मैं तो हूँ होशियार तुम कभी कोशिश भी मत करना।
उल्टा अगर चल गया तो फिर मुझे दोष मत देना।।
इतना कहकर चुप्पी साधी करी न मुझसे बात।
मैं डर के मारे नहीं बोला किस्सा हुआ समाप्त।।

गुजरा वक्त एक दिन बीबी ने ऐसे फरमाया।
पीहर जाने का मन  है सावन का महीना आया।।
नई-नवेली जाती हैं मैं बोला मत इतराओ।
कुछ तो शर्म करो देवी तुम दो बच्चों की माँ हो।।
अन्नपूर्णा रसोई देवी थोड़ा तरस तो खाओ।
रोटी कौन बनायेगा  इतना ही मुझे बताओ।।
खुद ही बनाकर खाना बोलीं महीने में आऊंगी।
हो जाना परफैक्ट लौटकर तुमसे बनवाऊंगी।।
शामत आई देख मैं बोला कभी नहीं मानूंगा।
हाथ जोड़ लो नाक रगड़ लो पर जाने नहीं दूंगा।।

इतना सुन देवीजी ने ललकारा ऐसे मुझको।
कहा था पंगा मत लेना अब ले लिया है तो भुगतो।।
तमतमा गया चेहरा आंखें सुर्ख हो गयीं लाल।
वही खास हथियार किया मुझ पर ही स्तेमाल।।
मैंने देखा ज्यों ही उसका हुलिया रंग और रूप।
डर के मारे आधा रह गया उड़ी प्यास और भूख।।
फिर जो सुनी दहाड़ यंत्र की मैं ऐसा घबराया।
छोड़ दिया मैदान भागकर घर से बाहर आया।।

फिर सोचा यूँ ही डरा रहीं हैं समझा निपट अनाड़ी।
मैं भी खेला-खाया था कोई कच्चा नहीं खिलाड़ी।।
हिम्मत कर फिर भीतर आया ज्यों ही किबाड़ खोली।
बैठी थी वह ताक में झट से चला दी पहली गोली।।
सही निशाना लगा एक में हालत मेरी पतली।
क्या अचूक हथियार था और गोली भी बिल्कुल असली।।
डबल हो गया हमला अब दो-दो मारी एक संग।
कर न सका मैं कुछ भी सारे शिथिल हो गये अंग।।
हाँ कर दी पीहर जाने की जहर का घूंट पिया था।
तब जाकर देवीजी ने उस यंत्र को बंद किया था।।
सावन क्या अब बारहों महीने डर-डर कर जीता हूं।
जब कहतीं पीहर जाना मैं झट हाँ कर देता हूं।।

रोना था हथियार और आँसू थे उसकी गोली।
मेरी बीबी ने खेली थी जिससे खूनी होली।।
पता नहीं इतने आंसू वो कहां छुपा लेती थीं।
पीहर की ना करो अश्रु की नदी बहा देती थीं।।
सुर कैसा था बतलाने से समझ नहीं पाओगे
माइके मत जाने देना फिर खुद ही जान जाओगे।।