दो अक्टूबर

आज का विशेष दिन
याद लेके आया फिर,
"बापू" और "लाल" दो महान इंसान की।
सत्य औ अहिंसा के
पुजारी बापू कहलाए,
सादगी-सरलता लालजी की पहचान थी।
आजादी दिलाए एक
बिना ढाल-तलवार,
जय-जवान जय-किसान दूसरे की शान थी।
आओ उन राहों पै चलें
जो दिखलाई हमें,
सच्ची भेंट होगी उन्हें वही सम्मान की।।