स्वतन्त्रता दिवस


भारतमाता की जय-जय के
नारे आज लगाते हैं।

वीर शहीदों को शब्दों के
श्रद्धा सुमन चढ़ाते हैं।

आँच न आने देंगे तुझपर
दोहराते हैं आज वचन।

जब जी चाहे अजमा लेना
कैसे शीश कटाते हैं।।